वचन

0:00
0:00

  • आदि में वचन था, और वचन परमेश्वर के साथ था, और वचन परमेश्वर था। वचन देहधारी हुआ, और अनुग्रह और सच्‍चाई से परिपूर्ण होकर हमारे बीच में डेरा किया, और हम ने उस की ऐसी महिमा देखी, जैसी पिता के एकलौते की महिमा। युहन्ना १:१, १४
  • नुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्‍तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा। मत्ती ४:४
  • मैं ने तेरे वचन को अपके हृदय में रख छोड़ा है, कि तेरे विरूद्ध पाप न करूं। भजन संहिता भजन संहिता ११९:११
  • तुम तो उस वचन के कारण जो मैं ने तुम से कहा है, शुद्ध हो। युहन्ना १५:३
  • तेरी वचन के आने से प्राकाश होता है; उस से भोले लोग समझ प्राप्त करते हैं। भजन संहिता ११९:१३०
  • पने आप को परमेश्वर का ग्रहणयोग्य और ऐसा काम करनेवाला ठहराने का प्रयत्‍न कर, जो लज्ज़ित होने न पाए, और जो सत्य के वचन को ठीक रीति से काम में लाता हो। २ तिमुथियुस २:१५
  • क्‍योंकि परमेश्वर का वचन जीवित, और प्रबल, और हर एक दोधारी तलवार से भी बहुत चोखा है; वह मन और आत्मा को, गांठ गांठ और गूदे गूदे को अलग करके, आत्मा को आर पार छेदता है, और मन की भावनाओं और विचारों को जांचता है। इब्रानियों ४:१२
  • वचन तो जीवनदायक है, शरीर से कुछ लाभ नहीं; जो वचन मैं ने तुम से आत्मा हैं वे आत्मा है, और जीवन भी हैं। युहन्ना ६:६३
  • आकाश और पृथ्वी टल जाएंगे, परन्‍तु मेरे वचन कभी न टलेंगे। मत्ती २४:३५
  • नये जन्मे हुए बच्‍चों की नाईं निर्मल आत्मिक दूध, अर्थात परमेश्वर के वचन की लालसा करो, ताकि उसके द्वारा उद्धार पाने के लिये बढ़ते जाओ। १ पतरस २:२